[हिंदी में] गोपालक डेयरी योजना 2019 Uttar Pradesh ऑनलाइन फार्म

हिंदी में गोपालक डेयरी योजना 2019, Gopalak Yojana Uttar Pradesh, गोपालक डेयरी स्कीम, गोपालक योजना ऑनलाइन फॉर्म, गोपालक योजना क्या है, गोपालक योजना उत्तर प्रदेश

प्रदेश में बेरोजगारी की समस्या से जुड़ने के लिए योगी सरकार ने एक नई योजना की घोषणा की है| इस योजना का नाम उत्तर प्रदेश गोपालक डेयरी योजना 2019| इस योजना के अंतर्गत जो भी व्यक्ति अपनी खुद की डेरी खोलना चाहता है उसे सरकार द्वारा आर्थिक सहायता दी जाएगी| सरकारी योजना में डेयरी खोलने के इच्छुक व्यक्ति को बैंकों से दो किस्तों में लोन देगी| गोपालक डेयरी योजना 2019 के तहत विभाग 5 साल तक ₹40,000/- प्रति वर्ष के हिसाब से आर्थिक सहायता प्रदान करेगा|इस पोस्ट में आप उत्तर प्रदेश की सरकारी योजना के बारे में जानकारी प्रापत करेंगे।

 गोपालक डेयरी योजना
गोपालक डेयरी योजना

जो लोग कामधेनु डेयरी योजना से निराश थे उन लोगों के लिए मुख्यमंत्री ने यह योजना की घोषणा की है| जो भी व्यक्ति बेरोजगार घूम रहे हैं वह अब डेयरी खोलने का साहस जुटा पाएंगे| कामधेनु योजना का फायदा केवल पूंजीपतियों को ही मिला और सामान्य किसान वह पशुपालन से वंचित रह गए| गोपालक डेयरी योजना 2019 स्थिति मैं सुधार लाएगी| योजना की संपूर्ण जानकारी आर्टिकल में नीचे दी गई है|

गोपालक डेयरी योजना 2019

गोपालक डेयरी योजना 2019 जैसे कि पहले भी बताया है कि, कामधेनु योजना से अलग है| यह सामान्य किसानों और पशुपालकों को सूर्य देने के लिए शुरू की गई है| इस योजना का लाभ उन लोगों को मिलेगा जिनके पास 10 से 20 गाय हैं| यह योजना उन लोगों को भी सहयोग प्रदान करेगी जो लोग 5 से 10 पशुओं की डेरी खोलना चाहते हैं| जैसे कि पहले भी बताया गया है कि इस योजना के अंतर्गत बैंकों से सरकार डेयरी फार्म खोलने वाले युवाओं को लोन देगी| यह लोन 5 वर्षों तक मिलेगा| जिसमें प्रत्येक वर्ष ₹40,000/- दिए जाएंगे| योजना का एक लक्ष्य है कि यह प्रदेश की बेरोजगारी की समस्या से मुक्त कर सके, और युवाओं को रोजगार के संसाधन मिल सके|

  • नाम – गोपालक डेयरी योजना
  • राज्य का नाम – उत्तर प्रदेश
  • योजना शुरू की गई – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा
  • योजना का लक्ष्य – सामान्य किसानों और पशु पालकों को आर्थिक सहायता देना
  • लाभार्थी – सामान्य पशुपालक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने गोपालक डेयरी योजना 2019 का शुभारंभ किया है| इस योजना का मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश के युवाओं को रोजगार दिलाना है| साथ ही साथ यह भी सुनिश्चित करना है कि सामान्य पशु पालन करने वाले लोगों को आर्थिक स्थिरता मिले| यह योजना कामधेनु योजना को बंद करके शुरू की गई है| जो लोग कामधेनु योजना से निराश थे उनके लिए यह योजना वरदान बन कर आई है|

Gopalak Yojana Uttar Pradesh

राज्य सरकार ने इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया भी शुरू की है| योजना का लाभ उठाने के लिए व्यक्ति इस अवस्था में ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं| डेयरी फार्म खोलने वाले युवा खुद को रोजगार देने के साथ-साथ डीएवी रोजगार उपलब्ध करवाएंगे| इस योजना के अंतर्गत सरकार डेयरी खोलने के लिए लोन दिलवाएगी| गोपालक डेयरी योजना 2019 से संबंधित जानकारी जैसे की योजना के लाभ उद्देश्य ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया इत्यादि आर्टिकल में नीचे दिए गए हैं|

गोपालक डेयरी स्कीम बैंक लोन जानकारी

  1. इस योजना का लाभ उठाने के लिए पहले युवाओं को 80 लाख रुपए की लागत से 10 पशुओं के लिए पशुशाला का निर्माण करना होगा|
  2. पशुपालन विभाग से आवेदन हो जाने के पश्चात, इस योजना के अंतर्गत रुपए 60 लाख बैंकों द्वारा पहले साल 5 पशुओं के लिए दिए जाएंगे|
  3. जो लोग केवल 5 पशु ही पाना चाहते हैं उन्हें दूसरी किस्त नहीं दी जाएगी|
  4. जो व्यक्ति पांच पशुओं से ज्यादा पाना चाहते हैं उन्हें दूसरी किस्त में भी ₹3.60
  5. लाख की राशि बैंकों द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी|
  6. पशुपालक को डेयरी खोलने के लिए कुल ₹1.80 लाख होंगे और जबकि इसकी कुल लागत ₹9,00,000/- है|
  7. अन्य बचे हुए 20 लाख रुपए बैंकों द्वारा 5 सालों में 40,000/- रुपए प्रति वर्ष की दर से दिए जाएंगे|
  8. जो व्यक्ति केवल पांच पशुता की पालना चाहते हैं उन्हें बैंकों द्वारा 5 साल तक 20000 प्रतिवर्ष पैसे दिए जाएंगे|
  9. इसका मतलब यह है कि 5:00 बजे पानी बैंकों द्वारा इस योजना के अंतर्गत ₹1,00,000/- दिए जाएंगे वहीं 1010 पशु पालने यही राशिफल कर ₹2,00,000/- हो जाएगी|

गोपालक स्कीम पात्रता

  1. योजना के उत्तर प्रदेश के स्थाई ने वासियों के लिए है|
  2. जो भी व्यक्ति इस योजना का लाभ उठाना चाहता है उसकी फांसी का ₹100000 से अधिक नहीं होनी चाहिए|
  3. इस योजना का लाभ केवल बेरोजगार व्यक्तियों को ही मिलेगा|
  4. योजना का लाभ उठाने के लिए योजना में आवेदन करना अनिवार्य है|

Gopalak Yojana के लाभ

  1. गोपालक डेयरी योजना 2019 का फायदा उठाकर काफी लोगों को रोजगार मिलेगा|
  2. यह योजना प्रदेश में बेरोजगारी को हटाने में मदद करेगी|
  3. यह योजना गरीब तबके के किसान और पशुपालक लोगों को गरीबी से ऊपर उठने में मदद करेगी|
  4. इस योजना का लाभ उठाकर कोई भी व्यक्ति अपनी डेयरी फार्म खोल सकता है|
  5. इस योजना के अंतर्गत डेयरी फार्म खोलने के लिए आसानी से लोन मिल जाएगा|
  6. योजना का लाभ उठाकर गरीब तबके के लोग अपने परिवार का लालन पालन कर पाएंगे|

Related कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना

गोपालक योजना 2019 ऑनलाइन फॉर्म

  1. गोपालक डेयरी योजना 2019 का लाभ केवल उन्हीं लोगों को मिलेगा और वही आवेदन कर पाएंगे जिनकी रुचि पशु पालने में हो|
  2. आवेदन करने के लिए व्यक्ति को अपने नजदीकी चिकित्सा अधिकारी के केंद्र में जाना होगा|
  3. चिकित्सा अधिकारी के के पास जाकर आवेदन करने के बाद चिकित्सा अधिकारी व रिपोर्ट आगे पशु चिकित्सा अधिकारी को देंगे|
  4. उसके बाद सूची निदेशालय को दी जाएगी|
  5. आवेदक का चयन करने के लिए समिति में नोडल अधिकारी, सीडीओ अध्यक्ष और सीईओ सचिव शामिल होंगे|
  6. ऑनलाइन आवेदन करने के लिए फॉर्म जल्दी उपलब्ध करवाए जाएंगे|
  7. इस योजना के तहत पशुओं का चयन इस नतीजे पर होगा कि जो भी पशु खरीदने गए हैं वह दूध देने वाले होने चाहिए|
  8. खरीदे के पशु बिल्कुल स्वस्थ होने चाहिए और हर बीमारी से दूर होना चाहिए|
  9. पशुओं का बीमा करवाना अनिवार्य है|

गोपालक डेयरी स्कीम का पहले नाम कामधेनु डेयरी योजना हुआ करता था. योगी सरकार के आने के बाद इस योजना को मुख्यमंत्री गोपालक योजना में तब्दील कर दिया गया. इसके साथ ही नियम एवं शर्तों में अभी कुछ छोटे बड़े बदलाव किए गए हैं जिनकी जानकारी हम इस पोस्ट में आपको देंगे. हमारे किसान भाई केवल 10 दूध देने वाले दुधारू पशुओं से ही अपना व्यवसाय शुरू कर सकते हैं. ऐसे गोपाल को को सरकार द्वारा एकमुश्त राशि में लाभ प्रदान किया जाएगा. इस योजना में मुख्यतः गोपालक व्यक्ति जो इस योजना का लाभ लेगा उसे बैंक का ऋण लगभग 8 किस्तों में देना होगा. मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ का मानना है कि उत्तर प्रदेश में लगभग 70% लोग गांव में रहते हैं. जिन का मुख्य कार्य खेती करना है. दिन प्रतिदिन खेती के कम होने से वहां के मेहनतकश लोग शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं.

गोपालक डेयरी स्कीम 2019

इसका मुख्य कारण खेती में हो रहा घाटा एवं गांवों में रोजगार की कमी है. इसी को देखते हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गोपालक योजना 2019 को लागू करने का विचार किया है. इस योजना में ऐसे आपको पता है आप 10 दुधारू पशुओं से इस योजना की शुरुआत कर सकते हैं. इसमें अगर लागत की बात करें तो लगभग 8 लाख रु से 9 लाख रु तक की लागत आती है. इतनी बड़ी धनराशि का इंतजाम करना किसान के लिए भी आसान नहीं है. इसलिए सरकार उसे 80% धनराशि बैंक से लोन के रूप में वहीं आ कर पाती है. इसके अलावा बची हुई 20% राशि ही केवल किसान को देनी होती है जो लगभग 180000 रूपए तक बनती है. किसान अपने पशुओं को किसी भी पशु मेले में जाकर बेचकर मुनाफा कमा सकता है तथा बैंक की किस्तें दे सकता है.

तो यह थी गोपालक डेयरी योजना 2019 से संबंधित अब तक की संपूर्ण जानकारी| ऑनलाइन आवेदन फॉर्म जल्द ही उपलब्ध करवा जाएंगे इसलिए हमारे साथ बने रहे| योजना से जुड़ा अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर आप पूछ सकते हैं| हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *