शेळीपालन कर्ज योजना 2019 महाराष्ट्र अर्ज

शेळीपालन कर्ज योजना 2019 SBI सबसिडी महाराष्ट्र अर्ज | sheli palan yojana maharashtra 2019 | बकरी पालन योजना महाराष्ट्र 2019 | शेळी पालन सबसिडी | शेळी पालन कर्ज योजना 2019 | शेळी पालन साठी लोन | शेळी पालन अनुदान | पंचायत समिती शेळीपालन योजना २०१९।

महाराष्ट्र सरकार किसानों के हितों के लिए कई प्रकार की योजनाएं आरंभ कर चुकी है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की सरकार ने किसानों के लिए के प्रकार की योजनाएं जो कि काफी लोकप्रिय हुई है को भी शुरू किया है. ऐसी ही एक अन्य योजना शेळीपालन कर्ज योजना 2019 महाराष्ट्र के बारे में विस्तार में आपको जानकारी देने आए हैं. महाराष्ट्र में बकरी पालन योजना को ही शेळीपालन के नाम से जाना जाता है. महाराष्ट्र में कई ऐसे बड़े किसान हैं जो बकरियों का काफी बड़े स्तर पर उत्पादन करके काफी अच्छा मुनाफा कमा रही है. आज इस आर्टिकल को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ही हमारे किसान भाइयों को इस योजना के बारे में विस्तार में जानकारी देना है. साथ ही किसान भाई यह बात भी जरूर ध्यान में रखे की खेती के साथ साथ ऐसे छोटे व्यवसाय से भी काफी आमदनी हो सकती है.

शेळीपालन कर्ज योजना 2019

महाराष्ट्र सरकार पहले से ही कई पशुपालन से जुड़ी योजनाओं के लिए लोन / कर्ज मुहैया करवाती है. इस तरह की योजनाओं में, सरकार बैंक के साथ छोड़ कर किसानों के लिए लोन का प्रावधान करती है. ऐसे में किसानों को केवल मूल राशि को वापस करना होता है. उनके ब्याज की राशि राज्य सरकार द्वारा बहन की जाती है. इसी कड़ी में हम आपको महाराष्ट्र शेळीपालन कर्ज योजना 2019 की जानकारी लेकर आए हैं. बकरी पालन या बकरा पालन एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें किसान अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं. बकरियों के व्यवसाय में मुख्यतः, उन्हें बेचकर अच्छी मुनाफा कमाया जा सकता है.

एक बकरी के बच्चे से लेकर एक व्यस्क बकरी तैयार होने तक 1 साल के भीतर का समय लगता है. अगर बकरी द्वारा उत्पाद किए गए खर्च की बात करें तो काफी कम होता है. उनकी भी काफी कम होती है जिससे किसान को ज्यादा धन की आवश्यकता नहीं पड़ती। लेकिन फिर भी छोटे किसान राज्य सरकार की मदद से इस योजना को शुरू कर सकते हैं. शेळीपालन लोन योजना 2019 के लिए सरकार काफी हद तक किसानों का साथ दे रही है.

महाराष्ट्र बकरी पालन लोन योजना 2019

दोस्तों, महाराष्ट्र सरकार की बकरी पालन लोन योजना 2019 में किसान पूरी जानकारी यहां से ले सकते हैं. भारत में कुछ ऐसे इलाके हैं जहां पर पानी एवं चारे की कमी रहती है. ऐसे क्षेत्रों में बकरी पालन काफी हद तक कामयाब होती है. बकरी की खुराक काफी कम होती है. गाय भैंस इत्यादि के मुकाबले इसकी खुराक कम है, तथा उत्पादन अधिक है. बकरी पालन से जुड़कर किसान हर माह अच्छी-खासी आमदनी कर सकते हैं तथा, इस योजना का लाभ उठा सकते हैं. इस योजना के लिए क्या-क्या नियम एवं पात्रता है यह हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे। इसके साथ ही कैसे आप शेळीपालन योजना शुरू कर सकते हैं इसकी भी जानकारी संक्षेप में समझाइए जाएगी। तो हमारी इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पढ़ें तथा पूरा पढ़ने के बाद ही आपको इसकी बेहतर जानकारी मिलेगी।

शेळीपालन कर्ज योजना

बकरी पालन लोन योजना महाराष्ट्र कौन से किसान शुरू करें?

हमारे किसान भाई जो कि मध्यवर्ग या छोटे किसान हैं वे, इस योजना का लाभ ले सकते हैं.
ऐसे किसान जिनके पास अपनी भूमि नहीं है, या भूमि की कमी है वह भी शेळीपालन कर सकते हैं.
बकरियों के साथ साथ आप पशुपालन जैसे की गाय, भैंस इत्यादि हेतु भी लोन ले सकते हैं.

महाराष्ट्र में बकरी पालन कैसे शुरू किया जा सकता है?

इस योजना के अंतर्गत आप कम खर्च करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं.

इसके साथ ही बकरी पालन व्यवसाय में आप मुनाफा जल्द से जल्द वसूल कर सकते हैं.

इसमें आपको बकरियों के साथ सरल शेड बकरे होने की आवश्यकता है.

बकरियों में प्रजनन की दर अन्य पशुओं के मुकाबले अधिक होती है.

बकरी का बच्चा 1 साल के अंदर तैयार हो जाता है.

किसान आसानी से बकरी बेच कर पैसा पूरा कर सकते हैं.

शेळी पालन कर्ज योजना में मुख्य प्रजातियां

पहली प्रजाति जमुनापारी बकरी:-

  • यह वक्त की एक अच्छी गुणवत्ता वाली होती है.
  • पूर्ण विकसित होने के बाद बकरे का भार 65 से लेकर 85 किलो तक होता है.
  • और बकरी का भार लगभग 45 से 60 किलो तक हो सकता है.
  • इस प्रजाति में लंबाई लगभग 12 इंच तक हो सकती है.
  • सबसे बड़ा फायदा इस बकरी का यह है कि, इसका बच्चा 6 महीने में 15 किलो तक हो जाता है.
  • अगर दूध की बात करें तो यह प्रतिदिन 2 से लेकर 2.5 लीटर तक दूध देती है.

दूसरी प्रजाति तेलीचेरी बकरी:- 

  • इस बकरी की मुख्य खासियत यह है कि इसका रंग सफेद भूरा एवं काला होता है.
  • इस किस्म में बकरे का वजन लगभग 40 से 50 किलो तक हो जाता है.
  • इसके विपरीत बकरी में इसका वजन 30 से लेकर 40 किलो तक हो सकता है.

Related :- महाराष्ट्र सरकारी योजना लिस्ट

तीसरी प्रजाति बोअर बकरी:-

  • इस प्रजाति में मुख्य तत्वों पर अधिक ध्यान दिया जाता है.
  • बोअर जाति का बकरा मुख्य समास के लिए उपयोग किया जाता है.
  • इसकी सबसे खास बात इस का वजन है.
  • एक हष्ट पुष्ट बकरा वजन के हिसाब से 110 किलो से लेकर 135 किलो तक हो सकता है.
  • जबकि बकरी 90 से लेकर 100 किलो तक होगी।

Relate:- राजस्थान बकरी पालन लोन योजना

महाराष्ट्र शेळीपालन योजना 2019 अर्ज

इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा, आपको बैंक से आसान किस्तों पर शेळीपालन कर्ज २०१९ मुहैया कराया जाएगा।

इसके लिए आप अपने नजदीकी ग्राम पंचायत, संपर्क कर सकते हैं.

या आप महाराष्ट्र राज्य सरकार की आधिकारिक वेबसाइट :- यहाँ से देखे पर इसकी जानकारी ले सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *