Nabard Dairy Udyamita vikas Yojana 2019 Uttar Pradesh Form

Nabard Dairy Udyamita vikas Yojana 2019 Uttar Pradesh Form, nabard dairy loan application form in hindi, dairy farm project in hindi pdf, pradhan mantri dairy yojana, डेयरी उद्यमिता विकास योजना up, नाबार्ड डेयरी योजना राजस्थान 2019-20, डेयरी उद्यमिता विकास योजना bihar, MP, छत्तीसगढ़.

देशभर में दूध देने वाले पशुओं से रोजगार की संभावनाएं लगातार बढ़ती जा रही है इसे देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक नई योजना की घोषणा की है| इस योजना का नाम उत्तर प्रदेश की Dairy Udyamita vikas Yojana 2019 रखा गया है| इस योजना का लाभ उठाकर हर वक्त जो बेरोजगार है वह रोजगार हासिल कर सकता है| योजना का लक्ष्य युवाओं को रोजगार देना तथा उन्हें पशुपालन डेयरी के प्रति प्रोत्साहित करना है|

Dairy Udyamita vikas Yojana

इससे प्रदेश के युवाओं को आर्थिक मजबूती मिलेगी| योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजातियों के आवेदकों को सरकार 33% की सब्सिडी प्रदान करेगी| वहीं सामान्य वर्ग के आवेदकों को सरकार इस योजना के तहत 25% की सब्सिडी प्रदान करेगी| युवाओं को डेयरी खोलने के लिए सरकार बैंक से लोन भी दिलाएगी| इस योजना के तहत जो व्यक्ति दो गाय की डेयरी और लेट हो रहा है उसे 1,20,000 रु के लोन पर 30,000 रूपए की सब्सिडी सरकार द्वारा दी जाएगी| जो व्यक्ति अनुसूचित जाति अथवा अनुसूचित जनजाति से आता है उसे दो गाय की डेयरी खोलने पर 1,20,000 रूपए में से 36,000 रूपए का अनुदान सरकार द्वारा दिया जाएगा.

Related:- राजस्थान पशुपालन लोन योजना

Dairy Udyamita vikas Yojana

इस योजना के तहत डेयरी खोलने पर सरकार लोगों को 25 से 35 फ़ीसदी की सब्सिडी मुहैया कराएगी| इस प्रोजेक्ट के तहत जो भी व्यक्ति 10 दुधारू पशुओं की डेयरी खोलने का इच्छुक है उसे लगभग 7 लाख रुपए लगाने पड़ते हैं| इन 700000 रूपए में से सरकार व्यक्ति को इस योजना के तहत 1.75 लाख रुपए की सब्सिडी देगी| दिल्ली सरकार कृषि मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक यानी के नाबार्ड द्वारा दे रही है| जो भी जैक व्यक्ति एक छोटी डेयरी खोलना चाहता है उसे इस योजना के मुताबिक क्रॉसफिट गाय रखनी होगी|

इसका मतलब है कि ऐसी गाय जो को सबसे अधिक दूध देने वाली हो जिसमें के रेड सिंधी, भैंस, साहिवाल, राठी या गिर शामिल है| योजना के तहत आप दुधारू पशुओं की 10 तक की संख्या की डेरी खोल सकते हैं| इस आर्टिकल में इस योजना से जुड़ी सभी जानकारियां दी गई है| यह जानकारियां पाने के लिए आपको इस लेख को ध्यान पूर्वक पूरा पढ़ना होगा|

डेयरी उद्यमिता विकास योजना

दोस्तों आपको यह जाना अनिवार्य है कि इस योजना के तहत आप 10 दुधारू पशुओं तक की डेरी खोल सकते हैं| योजना के मुताबिक आपको हर एक पशु पर 17,750 रुपए की सरकार द्वारा सब्सिडी दी जाएगी| जो व्यक्ति अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के है उन्हें इस योजना के तहत एक पशु पर 23,300 रुपए की सब्सिडी मिलेगी| इसका मतलब यह हुआ कि सामान्य वर्ग के व्यक्ति को इस योजना के तहत दस दुधारू पशुओं की डेयरी खोलने पर सरकार 1.77 लाख रुपए की सब्सिडी देगी| जो व्यक्ति दूध के उत्पादक बनाने के यूनिट खोलना चाहते हैं इस योजना के तहत उन्हें भी सब्सिडी दी जाएगी|

Related:- गोपालक डेयरी योजना 2019

इस योजना के तहत आपको दूध के उत्पादन से बनने वाले पदार्थों के लिए यूनिट खोलने में जॉब करना चाहिए वह आप खरीद सकते हैं| अगर ऐसे यूनिट के लिए आपके मशीन की कीमत 13.20 लाख रुपए है तो उस पर सरकार आपको 25% की सब्सिडी देगी| इसका मतलब है कि ऐसे मशीन पर आप को सरकार द्वारा 3.30 लाख रुपए की अनुदान राशि अनुदान के रूप में दी जाएगी| वहीं अगर आप अनुसूचित जाति या जनजाति के व्यक्ति हैं तो आपको सरकार 4.40 लाख रुपए की राशि सब्सिडी के रूप में देगी|

Uttar Pradesh Dairy Udyamita vikas Yojana Key Points

Dairy Udyamita vikas Yojana के तहत राज्य में दुधारू पशुओं की डेयरी की 50 इकाइयां खोली जाएंगी|

डेयरी मैं गाय केवल जर्सी, साहिवाल अथवा शंकर एचएफ प्रजाति की ही होगी तथा भैंस केवल मुर्रा प्रजाति की ही होगी|

यह व्यक्ति खुद अपनी सुविधा अनुसार निर्धारित करेगा कि 50 दुधारू पशुओं की एक यूनिट मैं उसे सिर्फ गाय रखनी है या सिर्फ बहन से रखनी है अथवा गाय और भैंस से दोनों रखनी है और कितनी कितनी संख्या में रखनी है| लेकिन उसे गाय और भैंस की एक ही प्रजाति रखनी होगी|

इस योजना के तहत पशुओं को राज्य के बाहर से खरीदा जाएगा|

जिस भूमि में आवेदक शर्ट बनाना चाहता है उसके पास कम से कम 1 एकड़ भूमि उससे अधिक होना अनिवार्य है|

50 दुधारू पशुओं की डेयरी खोलने की कीमत लगभग 58 लाख रुपए है| इसमें पशुओं के लिए बनाए जाने वाले घर, घास तथा गोदाम एवं पशुओं की कीमत भी शामिल है|

इस 58 लाख रुपए की राशि में से आवेदक को 12.64 लाख रुपए जो की कुल राशि का 25% है स्वयं देना होगा| बाकी का 37.94 राख रुपए जो की कुल राशि का 75% है वह सरकार बैंक से लोन के द्वारा आवेदक को दिलाएगी|

बैंक द्वारा लिए गए ऋण या फिर आवेदक की लागत का 75% ऐसा भी जो भी इसमें कम होगा उसका 12% ब्याज दर से अधिकतम 66 लाख रुपए की धनराशि 5 वर्षों यानी कि 60 महीने तक राज्य सरकार द्वारा ही दी जाएगी|

dairy farm project in hindi main Importance

  • इस योजना का लक्ष्य है कि राज्य में वह पशुओं जिनका उत्पादन क्षमता उच्च है की उपलब्धता तथा उत्पादन बड़े|
  • राज्य भर में दुधारू पशुओं के उच्च प्रजाति के सेंटर ऑफ एक्सीलेंस को निर्मित करना|
  • योजना का उद्देश्य है कि भविष्य में प्रदेश में ही उच्च गुणवत्ता के पशु उपलब्ध हो सके|
  • प्रदेश में वह पशुपालक जो कामधेनु योजना से जुड़े नहीं है उन्हें उससे जुड़ने के लिए यह मिनी कामधेनु योजना चलाई गई है|

dairy udyamita vikas yojana form

  1. योजना का लाभ आप इस योजना में आवेदन कर कर उठा सकते हैं|
  2. आवेदन करने के लिए आपको नाबार्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा|
  3. आधिकारिक वेबसाइट का लिंग किस प्रकार से है https://www.nabard.org/
  4. आधिकारिक लिंक पर पहुंचने के बाद आपको आवेदन फॉर्म पर क्लिक करना होगा|
  5. इसके पश्चात आपको Dairy Udyamita vikas Yojana form को ध्यानपूर्वक पढ़कर भरना होगा|
  6. बिन मांगे गए दस्तावेजों को उसमें अपलोड करना होगा|
  7. इसके पश्चात आपको सबमिट बटन पर क्लिक करके आवेदन फॉर्म को सबमिट करना होगा|
  8. यह करने के बाद आपका आवेदन फॉर्म भर चुका है अब आप इसका प्रिंटआउट संभाल कर रख सकते हैं|

तो दोस्तों यह थी उत्तर प्रदेश Dairy Udyamita vikas Yojana 2019 से संबंधित संपूर्ण जानकारी| यदि आपको इस जानकारी से लाभ मिला हो तो हमें कमेंट बॉक्स पर लिखकर जरूर भेजें| इसी तरह की अन्य सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारे साथ बने रहे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *