कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना 2019 पशु शेल्टर आवेदन फार्म

कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना 2019, कान्हा पशु शेल्टर होम्स आवेदन फार्म,  कान्हा पशु आश्रय योजना उत्तर प्रदेश,  कान्हा गोशाला एवं पशु शेल, Kanha gaushala yojana.

उत्तर प्रदेश सरकार ने गौ माता की रक्षा और उनकी देखभाल के लिए एक नई योजना का गठन किया है| इस योजना का नाम है कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना| योगी आदित्यनाथ जीने का नागौर गौशाला खोलने के आदेश दे दिए हैं| शुरुआती चरण में नगर निगम में गाना गौशाला खोली गई जिसके बाद आप सभी शहरों वैसे खोलने के आदेश दिए गए हैं| इस योजना को लागू करने की जिम्मेवारी नगर विकास विभाग को दी गई है| गौशाला का निर्माण विभाग शहरी निकाय की जमीन पर करेगा|

अगर जमीन उपलब्ध नहीं है तो जमीन को उपलब्ध करवाना डीएम का काम होगा| साथ ही साथ इस योजना को अच्छे से लागू करने के लिए एनजीओ और पशु प्रेमियों की मदद भी ली जाएगी| कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना की मदद से गाय और अन्य पशुओं को काफी रात मिलेगी| योजना से संबंधित सारी जानकारी पाने के लिए आर्टिकल को अच्छे से नीचे तक पढ़े|

कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना 2019

बेसहारा पशुओं की सुरक्षा करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना को शुरू किया है| मुख्यमंत्री द्वारा योजना को सफल बनाने के लिए  धनराशि भी उपलब्ध करा दी गई है| राज्य के विभिन्न नगरों में घोषाल आए खोली जाएंगी जहां बेसहारा पशुओं को आश्रय दिया जाएगा| उन पशुओं के चारा और अन्य जरूरी सामग्री राज्य सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी| जैसा कि हमने पहले भी बताया यह गौशाला है नगर विकास विभाग की जमीन पर बनवाई जाएंगी और जमीन पर ना होने पर डीएम ने उपलब्ध करवाएगा| जैसा कि हम सभी जानते हैं कि शहरों में बेसहारा पशु ज्यादातर गाय घूमते रहती हैं| इसकी वजह से काफी जगह ट्रैफिक जैम भी होता है और गाय भी अपना भरण-पोषण पति| इस समस्या से जुड़ने के लिए मुख्यमंत्री ने इस योजना को शुरू किया है|

कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना 2019

योजना को शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री में नगर निगम को आदेश दे दिए हैं| यह आदेश राज्य के सभी शहरी निकायों ने लागू किया जाएगा| जोशना को अच्छे से लागू करने के लिए आदेश जारी किया गया है कि पशु प्रेमियों और एनजीओ यानी कि स्वयं सेवी संस्थाओं की अधिक से अधिक सहायता दी जाए| अगर कोई भी इनमें से गौशाला चलाने की जिम्मेदारी देना चाहता है तो उसे वह भी जाए| 

कान्हा पशु शेल्टर होम्स

  • शुरू की गई योजना का नाम – कान्हा गोशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना
  • प्रदेश का नाम – उत्तर प्रदेश
  • इस योजना की घोषणा की गई – मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा
  • कान्हा योजना के लाभार्थी – बेसहारा गाय तथा अन्य पशु
  • योजना से संबंधित विभाग – नगर निगम विभाग
  • कान्हा योजना का मकसद – बेसहारा पशुओं को आश्रय प्रदान करना
  • योजना का प्रकार – राज्य सरकार योजना

साथ ही साथ पर यह भी ध्यान रखना चेहरे निकायों की जिम्मेवारी है कि वह संचालन अच्छे से कर रहा है या नहीं| कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना एक बहुत ही अच्छी योजना है इससे बेसहारा जानवरों को आवारा भटकना नहीं पड़ेगा| जानवरों की अच्छे से देखभाल हो पाएगी और रास्ते में लगने वाले जाम भी नहीं लगा करेंगे| कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना से संबंधित अधिक जानकारी इस आर्टिकल में नीचे दी गई है|

कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना के अंतर्गत इलाज की जरूरी व्यवस्था

इस योजना के अंतर्गत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस बात के आदेश दिए हैं कि गौशालाओं में इजाज की संपूर्ण व्यवस्था रखनी अनिवार्य है| यह जिम्मेवारी इलाके के डीएम को दी गई है| इलाज की व्यवस्था करना डीएम की जिम्मेवारी है और उसे ही पशु चिकित्साअधिकारी के द्वारा इलाज का इंतजाम करना होगा| अब इसमें मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि इंतजाम किस प्रकार के किए गए हैं उसका ऑडिट भी समय-समय पर करवाया जाएगा| इसलिए जो भी गौशालाओं को जाएगा उसे यह ध्यान रखना होगा कि वह पशुओं के इलाज के लिए पशु चिकित्साअधिकारी का इंतजाम करें| साथ ही साथ सबको यह भी ध्यान रखना होगा कि सभी संबंधित कागजातों का ध्यानपूर्वक रखरखाव हो| कागजी कार्रवाई को अच्छे से पूरा करना अनिवार्य होगा| कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना की अधिक जानकारी नीचे है

कान्हा गोशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना की धनराशि

योजना को अच्छी तरह से लागू करने के लिए राज्य सरकार ने गौशालाओं के लिए धनराशि भी उपलब्ध करवाई है| इस धनराशि का प्रयोग गौशालाओं में पशुओं के लिए चारा देने तथा उनके इलाज मैं खर्च किया जाएगा| आज तक उत्तर प्रदेश सरकार ने चोदा नगर निगम में चल रहे गौशालाओं में पशुओं के चारे के लिए साथ दिए है| साथ ही साथ साथ अन्य नगर निकायों को बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा लगभग 568.23 लख रुपए की धनराशि प्रदान की गई है| यह जानकारी सरकारी प्रवक्ता द्वारा प्रदान की गई| सराहनपुर, मेरठ, वृंदावन मथुरा, आगरा, शाहजहांपुर, अलीगढ़, बरेली, प्रयागराज, गाजियाबाद, झांसी, मुरादाबाद, गोरखपुर, अयोध्या तथा फिरोजाबाद जैसे नगरों में इस आदेश को स्वीकृत कर दिया गया है| एक नगर निगम को 50 लाख रुपए की धनराशि अवमुक्त की गई है|

कान्हा गौशाला योजना आवेदन फॉर्म 

कान्हा गोशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना के लिए सरकार ने 1136.40 लख रुपए की धनराशि की घोषणा की है| इसमें से राज्य सरकार ने अब तक 568.23 लाख रुपए की धनराशि विभिन्न नगर निगमों को अवमुक्त कर दी है| स्वीकृत की गई सरकार द्वारा धनु राशि का यह कुल 50% भाग है| 82.95 लाख रुपए नगर पंचायत भगवंत नगर उन्नाव के लिए दिए गए हैं| यही राशि नगरपालिका पंचायत उन्नाव, नगरपालिका पंचायत बहेरी बरेली, नवाबगंज गोंडा, सरहट मीरापुर उन्नाव, अकबर कानपुर देहात को भी प्रदान की गई है|

उत्तर प्रदेश की अन्य सरकारी योजनाए यहा से पढे

Kanha gaushala yojana

उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने ट्विटर हैंडल पर भी कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना के बारे में जानकारी प्रदान की है. उनके अनुसार इस योजना कि शुरू होने के तहत कांजी हाउस पशु शेल्टर होम की स्थापना करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने लगभग 40 करोड रुपए तब बजट में प्रावधान किया है. तो इस तरह आवारा पशु जो कि लोगों द्वारा सड़कों पर छोड़ दिए जाते हैं, उनके लिए राज्य सरकार अलग से शेल्टर होम का निर्माण करेगी। इन प्रश्नों का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि यह किसान की खेती को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं. इसके साथ ही सड़कों में चलने वाले आवारा पशुओं से किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने का डर बना रहता है. इसी को देखते हुए कान्हा गौशाला का भी निर्माण किया जाएगा। जैसे कि हमें पता है उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ एक पशु प्रेमी है. तथा गाय के प्रति उनकी भावना एवं प्रेम हिंदू होने का एक प्रतीक है.

तो यह थी अब तक की कान्हा गौशाला एवं बेसहारा पशु आश्रय योजना से संबंधित संपूर्ण जानकारी| योजना की अधिक जानकारी के लिए और अन्य सरकारी योजनाओं की जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे|हमसे बात करने के लिए आप नीचे टिप्पणी बॉक्स मे टिप्पणी कर सकते है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *