मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना २०१९ हिमाचल

मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना २०१९ | हिमाचल प्रदेश सोलर फेंसिंग स्कीम | एचपी खेत संरक्षण योजना 85% अनुदान फार्म | सोलर बाड़ योजना हिमाचल सरकार | mukhyamantri khet sanrakshan yojna Himachal Pradesh, सोलर बाढ़ सब्सिडी / अनुदान योजना 2019.

दोस्तों, हिमाचल प्रदेश सरकार ने किसानों के लिए एक नई योजना की घोषणा की है| इस योजना का नाम मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना रखा गया है| यह योजना खेतों की सुरक्षा के लिए चलाई जा रही है| इस योजना के अंतर्गत खेतों की कसम क्षण के लिए सौर फेंसिंग लगवाई जाएगी| जिसके लिए सरकार 85% की सब्सिडी प्रदान करेगी| यह सब्सिडी 3 या उससे अधिक किस समूह के किसानों को मुहैया करवाई जाएगी| आए दिन खेतों को जानवर बर्बाद कर देते हैं जिससे की फसल का बहुत नुकसान हो जाता है| सुल्तान सिंह की मदद से किसान अपने खेतों और उसमें लगी हुई फसल को बचा पाएंगे| इस योजना के अंतर्गत खेत के चारों तरफ सोलर फेंसिंग लगाई जाएगी|

मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना हिमाचल प्रदेश

खेत संरक्षण योजना की घोषणा मुख्यमंत्री द्वारा बजट के भाषण में की गई| इससे पहले राज्य में केवल 80% सब्सिडी ही प्रोवाइड की जाती थी| इस सूचना को सफल करने के लिए कृषि विभाग ने कुछ कंपनियों की सूची बनाकर उन्हें यह काम सौंप रखा है| रिजर्वेशन का लाभ उठाने के लिए किसानों को इस में ऑनलाइन आवेदन करना होता है| एक बार आवेदन मिल जाने पर कंपनियां किसानों के लिए सोलर फेंसिंग या सोलर बाढ़ लगाती है| इस लेख में इस योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियों को बताया गया है| इसलिए इसे ध्यान पूर्वक अंत तक पढ़े| प्रदेश भर में हर वर्ष जानवरों के खेतों में घुस जाने की वजह से काफी फसल बर्बाद हो जाती है| इससे किसानों को बहुत हानि उठानी पड़ती है| इस समस्या से जूझने के लिए सरकार ने मुख्यमंत्री के संरक्षण योजना की घोषणा की है.

खेत संरक्षण योजना

यही योजना की घोषणा बजट के भाषण में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा की गई| इस योजना के अंतर्गत किसानों को कृषि विभाग में जाकर सोलर बाढ़ लगाने के लिए 15% हिस्सा ही जमा करना होगा| इसका कारण यह है कि 85% खर्चा सरकार द्वारा सब्सिडी के तौर पर दिया जाएगा| पहले किसानों को 20% हिस्सा देना पड़ता था, लेकिन अभी राशि और भी घटकर 15% ही रह गई है| क्योंकि सरकार ने सब्सिडी को 80% से बढ़ाकर 85% कर दिया है|

mukhyamantri khet sanrakshan yojna

यह खेत संरक्षण योजना सब्सिडी सरकार तब मुहैया करवाएगी जब 3 या उससे अधिक किसान समूह में आकर इस योजना के लिए आवेदन करेंगे| इस योजना को अच्छी तरह से लागू करने के लिए इस साल सरकार ने 35 करोड़ रुपए का बजट पास किया है| इस योजना से जुड़ी अन्य जानकारी जैसे कि इस योजना के लाभ, जरूरी कागजात, ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया इस लेख में नीचे दी गई हैं| इसलिए इस योजना को पूरी तरह से समझने के लिए आपको यह आर्टिकल पूरा पढ़ना होगा|

  • सरकार द्वारा चलाई गई इस योजना का नाम – मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना
  • जुड़ा हुआ राज्य – हिमाचल प्रदेश
  • योजना चलाई गई – किसानों के लिए
  • घोषणा की गई – मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा
  • घोषणा कब हुई – बजट 2018-19 में
  • योजना के लिए बजट पास हुआ – 33 करोड़ रुपए का
  • योजना का लाभ कब उठा पाएंगे – जब 3 या उससे अधिक किसानों का समूह इसके लिए आवेदन करेगा
  • सब्सिडी की राशि – 85% सामूहिक आवेदन करने पर और 80% एक कल आवेदन करने पर
  • क्यों शुरू की गई – फसल को जानवरों से बचाने के लिए

इस योजना के तहत सरकार ने अब तक 32 कंपनियों को सोलूशंस इन लगाने के लिए चुना है| जैसे ही किसान आवेदन करते हैं यह कंपनियां आकर उनके खेतों में फेंसिंग लग जाती है| इस योजना का मकसद जानवरों से होने वाली फसल के नुकसान को कम करना है| इस योजना के तहत सोलर फेंसिंग 1500 मीटर की रनिंग तार लगाई जाएगी, जो खेतों के चारों तरफ होगी| इसके लिए करंट सोलर प्लांट द्वारा जनरेट किया जाएगा| इसके लिए सोलर प्लांट भी विस्थापित किए जाएंगे| इस योजना के अंतर्गत अब किसान चुनी गई कंपनियों में से अपनी पसंद की कंपनी को आवेदन करके सेंसिंग लगवा सकता है| अगर किसान को किसी कंपनी का काम पसंद नहीं आता वह दूसरी कंपनी की तरफ जा सकता है|

खेत संरक्षण योजना सोलर बाड़ हेतु 85% सब्सिडी

जो किसान अकेले पैसे करवाना चाहते हैं उन्हें 80% तक का सब्सिडी अनुदान दिया जाएगा| इस योजना के लाभ उठाने के लिए किसानों को जिला कृषि खंड में जाकर आवेदन करना होगा| पिछली तर्क सरकार द्वारा जब यह योजना शुरू की गई थी तब किसानों को 60:40 के रेशों में अनुदान मिलता था| इसकी वजह से किसान को फेंसिंग करवाने में काफी खर्च करना पड़ता था| इस वजह से यह योजना किसानों में ज्यादा लोकप्रिय नहीं हुई| लेकिन अब अनुदान राशि 80% से 85% कर देने के कारण किसानों में इस योजना के प्रति दिलचस्पी दिखाई दे रही है| आने जानकारी पाने के लिए इस आर्टिकल को आज तक पढ़े|

हिमाचल प्रदेश सोलर फेंसिंग स्कीम

इस योजना के अंतर्गत तीन प्रकार की जाती है| किसान अपने मनपसंद के हिसाब से इन तीनों में से किसी भी प्रकार की फेंसिंग को चुन सकता है| यह तीन प्रकार की फसल किस प्रकार से है:-

पांच फीट की ऊंची फेंसिंग
सात फीट की ऊंची फेंसिंग
नो फीट की ऊंची फेंसिंग

सोलर फेंसिंग योजना के लाभ

इस योजना से जानवर द्वारा फसल का किया जाने वाला नुकसान कम हो पाएगा|

इसे किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा|

प्रदेश में फसल की पैदावार में वृद्धि होगी|

Related:- हिमाचल बेरोजगारी भत्ता

किसानों को सामूहिक तौर पर आवेदन करने पर 85% सब्सिडी मिलेगी|

एक कल तौर पर आवेदन करने पर किसान को 80% की सब्सिडी प्रदान होगी|

किसान अपनी मर्जी की कंपनी से फेंसिंग लगवा सकता है|

इससे खेतों की सुरक्षा की जा सकेगी|

खेत संरक्षण योजना मुख्यमंत्री ऑनलाइन आवेदन फॉर्म

  1. पूजा में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा|
  2. इस योजना के लिए अभी तक आधिकारिक वेबसाइट की घोषणा नहीं की गई है|
  3. रजिस्ट्रेशन अभी शुरू नहीं हुए हैं|
  4. एक बार आधिकारिक वेबसाइट के घोषित हो जाने के बाद खेत संरक्षण योजना रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू होने पर हम आपको उसका लिंक यहां मोहनिया करवा देंगे|
  5. आधिकारिक वेबसाइट आपको उसका एप्लीकेशन फॉर्म भरना होगा|
  6. मांगे के दस्तावेज को उसमें जमा करना होगा|
  7. अपने आप को सबमिट बटन पर क्लिक करके इसे सबमिट करना होगा।

अटल आशीर्वाद योजना

तो दोस्तों यदि मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना से जुड़ी अभी तक के उपलब्ध जानकारी| जैसे ही पंजीकरण प्रक्रिया शुरू होती है और आधिकारिक वेबसाइट प्रदान की जाती है उसे हमें इस लेख में प्रकाशित करेंगे| इसलिए हमारे साथ जुड़े रहे, जिसके लिए आपको हमारा फेसबुक पेज लाइक करना होगा| यदि आपके मन में कोई प्रश्न है तो आप हमसे बेझिझक पूछ सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *